खूबसूरती में किसी एक्ट्रेस से कम नही है ये महिला क्रिकेटर, 13 साल की उम्र में छोड़ दिया था घर

0

Cricketer Harleen Deol: महिला क्रिकेट टीम में कई ऐसी खिलाड़ी हैं, जो अपने खेल के साथ-साथ काफी खूबसूरत भी हैं. इसमें एक नाम वर्ल्ड कप में भारतीय टीम का हिस्सा रही हरलीन देओल का भी नाम शामिल है. जिन्होंने बीते साल ही इंटरनेशनल स्तर पर अपने क्रिकेट करियर का डेब्यू किया था. आज के समय में सोशल मीडिया पर हरलीन की जबरदस्त फैन फॉलोइंग हैं. कहा जाता है कि हरलीन बेहतरीन मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज होने के साथ, बाकी खेलों में भी काफी माहिर हैं. यहां तक कि हरलीन किसी एक्ट्रेस से भी कम नहीं दिखाई देती. यानी की ये कहना गलत नहीं होगा कि एक खिलाड़ी होने के साथ उनके अंदर हर गुण मौजूद है. बता दें कि हाल ही में हरलीन ने भारत की ओर से एक वनडे के साथ 6 टी20 मैच खेले हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरलीन चंडीगढ से टीम इंडिया में खेलने वाली दूसरी महिला खिलाड़ी हैं. बताया जाता है कि हरलीन जब 8 साल की थी, तभी से ही वो क्रिकेट की बड़ी शौकीन थी और अपने आसपास के लड़कों और भाई के साथ खेला करती थीं. इसके बाद हरलीन 9 साल की थीं, जब उन्होंने स्कूल की तरफ से नेशनल स्तर पर क्रिकेट खेला.इस अचीवमेंट के बाद वो 13 साल की उम्र में क्रिकेट खेलने के लिए घर छोड़कर हिमाचल चली गईं. यहीं से ही हरलीन ने पेशेवर तौर पर क्रिकेट खेलने की शुरूआत की.

Cricketer Harleen Deol

आपको बता दें कि खेल के साथ हरलीन पढ़ाई के मामले में भी काफी अव्वल दर्ज की रही हैं. जानकारी के मुताबिक 10वीं और 12वीं में उनके 80% नंबर थे. इतना ही नहीं हरलीन बहुत अच्छी एक्टर भी हैं. इस समय वे सिर्फ 22 साल की हैं. खिलाड़ी क्रिकेट के अलावा हरलीन की दिलचस्पी हॉकी, फुटबॉल, बास्केटबॉल में भी है. और तो और वो स्कूल में जब पढ़ाई कर रही थीं तब बेस्ट एथलीट भी रही थीं.

Cricketer Harleen Deol

कहा जाता है कि जब हरलीन आसपास के लोगों के साथ क्रिकेट खेलती थीं, तो पड़ोसी इस बात की शिकायत उनके परिवार वालों से करते थे कि अब लड़की बड़ी हो रही है और ऐसे में काफी बड़े-बड़े लड़कों के साथ वो खेलती है. लेकिन अच्छी बात तो ये थी कि उस समय पड़ोसियों की बातों पर न कभी हरलीन ने ध्यान दिया और न ही उनके अभिभावक ने गौर किया. नतीजा ये कि आज हरलीन टीम इंडिया में अपनी जगह बना चुकी हैं.

Cricketer Harleen Deol

बेटी के खेल के बारे में बात करते हुए हरलीन की मां ने एक इंटरव्यू में बताया था कि क्रिकेट खेलने के समय में उनकी बेटी ने कभी उन्हें किसी तरह से परेशान नहीं किया. अपने खेल को लेकर हरलीन काफी गंभीर थीं. वो खुद ही सुबह उठती थीं.

Cricketer Harleen Deol

खुद ही कोचिंग के लिए टेबल पर चढ़कर दरवाजा खोल लेती थी. चोट लगने पर खुद ही मरहम भी लगा लेती थीं. हरलीन का क्रिकेट के लिए यही जुनून था जिसने उन्हें इस मुकाम पर पहुंचाया है.

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.