Sunday, August 1, 2021
HomeआईपीएलIPL फाइनल में खेली गई 5 अहम पारियां, जिन्हें भूल चुके हैं...

IPL फाइनल में खेली गई 5 अहम पारियां, जिन्हें भूल चुके हैं फैन्स

टूर्नामेंट के फ़ाइनल में जगह पाना हर आईपीएल खिलाड़ी का सपना होता है क्योंकि यह साल के सबसे ज्यादा देखे जाने वाले क्रिकेट मैचों में से एक है. मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स ने नियमित रूप से आईपीएल के फाइनल में जगह बनायीं है, जबकि अन्य टीमों ने भी कुछ मौकों पर फाइनल खेला हैं. यहां तक ​​कि आईपीएल फाइनल जैसे बड़े मैच में एक छोटी सी पारी भी कई बार महत्वपूर्ण साबित होती हैं.

आज इस लेख हम आईपीएल फाइनल में खेली गई 5 सबसे अंडररेटेड पारियों के बारे में जानेगे.

1) सोहेल तनवीर- 9*(7) vs CSK (2008)

पाकिस्तानी तेज गेंदबाज सोहेल तनवीर ने हमेशा आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया. 2008 के आईपीएल फाइनल में, तनवीर ने 7 गेंदों पर नाबाद 9 रन बनाए और शेन वार्न के साथ आरआर को विजयी लाइन पर ले जाने के लिए एक महत्वपूर्ण साझेदारी बनाई थी.

2) एल्बी मॉर्केल- 15(6) vs MI (2010)

दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर एल्बी मॉर्केल आईपीएल के पहले कुछ सत्रों में चेन्नई के लिए एक मैच विजेता खिलाडी थे. सुरेश रैना ने IPL फाइनल 2010 में CSK के लिए टॉप स्कोर किया था, लेकिन मॉर्केल की सिर्फ 6 गेंदों पर 15 रनों की मदद से चेन्नई का स्कोर 150 से 168/5 तक पहुंचा था.

3) जैक्स कैलिस – 69 (49) vs CSK (2012)

2012 में केकेआर को अपना पहला खिताब जीतने में मदद करने का श्रेय मविंदर बिसला को जाता है, लेकिन यह जैक कैलिस की 49 गेंदों पर 69 रन की पारी थी, जिसकी मदद से बिसला भी कुल के बल्लेबाजी कर पाए थे और कोलकाता को फाइनल में 191 रनों के विशाल लक्ष्य का पीछा करने में मदद की थी.

4) सुरेश रैना- 32(24) vs SRH (2018)

SRH की 2018 में एक शानदार गेंदबाजी यूनिट थी. शेन वॉटसन ने IPL 2018 के फाइनल में उनके खिलाफ बहुत अच्छी बैटिंग की, लेकिन सुरेश रैना की महत्वपूर्ण पारी को फैन्स भूल चुके होंगे. रैना ने सिर्फ 24 गेंदों में 32 रन बनाए. जिससे वॉटसन को अपना स्वाभाविक खेल खेलने मौका मिला.

5) युसूफ पठान- 36(22) vs KXIP (2014)

2014 में दूसरा खिताब जीतने वाली केकेआर की टीम ने फाइनल में किंग्स इलेवन पंजाब के विरुद्ध शानदार प्रदर्शन किया था. मनीष पांडे ने 94 रनों की पारी खेलकर केकेआर को 200 रनों के लक्ष्य के करीब पहुंचाया. लेकिन इस दौरान यूसुफ पठान की 22 गेंदों पर 32 रनों की तूफानी पारी को सब भूल चुके हैं. मैच में गंभीर के जल्दी होने के बाद पठान ने भी टीम को संभाला था.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments