5 मौके जब खिलाड़ियों ने कैच नहीं विश्व कप ही छोड़ दिया, एक ने जड़ दिए थे 237 रन

0

इतिहास के 5 कैच जिसने वर्ल्डकप ही हरा दिया

हर खिलाड़ी का सपना होता है कि वह अपनी टीम को विश्वकप जिताने में अपना 100% दे। लेकिन इसके बावजूद भी कई खिलाड़ियों से विश्वकप के दौरान गलतियां हो जाती हैं। कई खिलाड़ी विश्वकप के दौरान खेले गए मुकाबले में किसी दिग्गज खिलाड़ी का कैच छोड़ देते हैं। जिस वजह से टीम के हाथों से विश्वकप ही चला जाता है। आज हम ऐसे पांच खिलाड़ियों के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिन्होंने कैच छोड़कर विश्व कप ही छोड़ दिया।

1- 2015 विश्वकप में पाकिस्तानी टीम द्वारा छोड़ा गया वॉटसन का कैच

shane-watson

विश्व कप 2015 का तीसरा क्वार्टर फाइनल पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया। इस लो स्कोरिंग मुकाबले में 214 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 59 रन पर तीन विकेट गंवा दिए थे। उसके बाद रियाज की गेंद पर राहत ने शेन वॉटसन का कैन छोड़ दिया। इसके बाद वाटसन ने शानदार 64 रन की पारी खेली। जिस वजह से ऑस्ट्रेलिया की टीम ने यह मुकाबला 4 विकेट से जीत लिया। वहीं पाकिस्तान की टीम इस गलती की वजह से विश्व कप से बाहर हो गई।

2- 1999 विश्वकप में स्टीव वॉ का कैच

steve waught catch

विश्व कप 1999 के दौरान ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच एक शानदार मुकाबला खेला गया। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया को जीतने के लिए 271 रन बनाने थे। लेकिन महज 48 रन पर ऑस्ट्रेलिया की टीम के 3 विकेट आउट हो गए। उसके बाद हर्शल गिब्स ने स्टीव वॉ का आसान कैच छोड़ दिया। उसके बाद स्टीव वॉ ने 110 गेंदों में 120 ठोक दिए। स्टीव वॉ पारी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका की टीम में मुकाबला हार गई।

3- 2007 विश्वकप फाइनल में एडम गिलक्रिस्ट का कैच

adm gillchrist

विश्व कप 2007 के दौरान श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए एक मुकाबले में श्रीलंका के दिल्हारा फर्नांडो ने 31 रन के स्कोर पर गिलक्रिस्ट का कैच छोड़ दिया। इस जीवन दान के बाद एडम गिलक्रिस्ट ने 104 गेंद में 149 रन की तूफानी पारी खेल दी। गिलक्रिस्ट की इस पारी की वजह से ऑस्ट्रेलिया आसानी से यह मुकाबला जीत गई। उसके बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम ने यह विश्व कप भी अपने नाम कर लिया।

4- 2015 विश्वकप में मार्टिन गुप्टिल का कैच

murtin guptil catch

विश्व कप 2015 के दौरान न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज के बीच एक क्वार्टर फाइनल मुकाबला खेला गया था। इस मुकाबले में वेस्टइंडीज के खिलाड़ी मार्लोन सैमुअल्स ने मात्र 4 रन के स्कोर पर मार्टिन गुप्टिल का कैच छोड़ दिया। उसके बाद मार्टिन गुप्टिल ने इस मुकाबले में 237 रन की शानदार पारी खेल दी। जिस कारण वेस्टइंडीज की टीम को बड़ी हार का सामना करना पड़ा।

5- 2011 विश्वकप में सचिन तेंदुलकर का कैच

sachin tendulkar catch

विश्वकप 2011 में भारत और पाकिस्तान के बीच सेमीफाइनल मुकाबला खेला गया था। इस दौरान भारतीय टीम ने मात्र 141 रन पर चार विकेट गंवा दिए थे। उसके बाद एक छोर पर डटे हुए सचिन तेंदुलकर के कई कैच पाकिस्तान के खिलाड़ियों ने छोड़ दिए। सचिन ने जीवनदान का पूरा फायदा उठाते हुए उस मुकाबले में 85 रन की पारी खेली। इस कारण भारतीय टीम में एक सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने में कामयाब रही। इस वजह से भारतीय टीम यह मुकाबला जीतकर अगले दौर में प्रवेश कर गई। उसके बाद भारतीय टीम ने 28 साल बाद विश्वकप अपने नाम कर लिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.