सिडनी टेस्ट की संघर्षपूर्ण पारी की तरह ही है हनुमा विहारी की कहानी, 10 साल की उम्र में छूट गया था पिता का साथ, मां ने पेशन के सहारे की परवारिश

0

हैमस्ट्रिंग चोट के बावजूद सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (SCG) पर तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन सोमवार को खेली गई जुझारू और मैच ड्रॉ कराने वाली पारी ने हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) के टेस्ट करियर पर असर डाला है। चोट के कारण हो सकते हैं कि वह चौथे और अंतिम मैच में न खेलें, लेकिन इस पारी ने उन्हें निश्चित रूप से उन्हें बहुत आत्मविश्वास दिया है।

कप्तान विराट कोहली ने सीरीज शुरू होने से पहले स्टीव स्मिथ के साथ बातचीत में कहा था कि विहारी एक ऐसे खिलाड़ी थे जिसे वह टेस्ट सीरीज के दौरान आगे देखना चाहते थे। कोहली को उनकी और उनके धैर्य को पसंद करने का एक कारण हो सकता है।

कोहली जब 18 साल के थे, तो रणजी ट्रॉफी के दौरान उनके पिता का निधन हो गया था। विहारी भी जब 10 साल के थे तो उनके पिता का निधन हो गया था। 2006 में अपने पिता के निधन के बावजूद कोहली रणजी ट्रॉफी में कर्नाटक के खिलाफ खेले थे। विहारी भी अपने पिता के निधन के बावजूद स्कूल फाइनल के मैच में खेले थे।

विहारी के बचपन के कोच जॉन मनोज ने कहा, ” वह बहुत धैर्यवान है। अपने पिता के निधन के बावजूद वह स्कूल के फाइनल मैच में खेले थे और 80 रन बनाए थे। वह शुरू से ही दृढ़ संकल्पी था। उनकी मां ने दिवंगत पिता के पेंशन के सहारे उन्हें समर्थन किया है।”

विहारी ने 161 गेंदों पर नाबाद 23 रन बनाए, जोकि दोहरे अंकों में पहुंचने का टेस्ट इतिहास का सबसे कम आंकड़ा है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें स्पोर्ट्स गलियारा.कॉम (Sportsgaliyara.com) के सोशल मीडिया फेसबुक,  ट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.