सुशांत की मौत के बाद क्रिकेट अशोक डिंडा ने बंगाल क्रिकेट संघ पर लगाए गंभीर आरोप

0

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत ने हर किसी को हिला दिया। दावा किया जा रहा है कि सुशांत पिछले छह महीने से डिप्रेशन में थे। जिसका कारण बॉलीवुड में नेपोटिज्म है। इसी वजह से उन्हें बॉलीवुड से साइड लाइन किया जा रहा था। वही सुशांत के इस कदम के बाद अब सोशल मीडिया पर लोग बॉलीवुड के खिलाफ अपनी भड़ास निकाल रहे है। तो वहीं कई सेलेब्स भी नेपोटिज्म और मेंटल हेल्थ पर खुलकर बोल रहे है लेकिन अब इस मामले पर बंगाल के क्रिकेटर अशोक डिंडा ने एक बड़ा बयान दिया है। डिंडा के मुताबिक, नेपोटिज्म और डिप्रेशन सिर्फ बॉलीवुड में नहीं, बल्कि सब जगह है।

बता दें कि अशोक डिंडा को पिछले साल रणजी ट्रॉफी के दौरान अनुशासानात्मक की वजह से बाहर कर दिया गया था। डिंडा को गेंदबाजी कोच राणादेब बोस के साथ तीखी झड़प के बाद टीम से बाहर कर दिया गया था। लेकिन अब इस सत्र में डिंडा फिर से धमाकेदार वापसी करने जा रहे है। जिसकी जानकारी खुद डिंडा ने दी। डिंडा ने पीटीआई-भाषा से बात करते हुए सुशांत सिंह राजपूत के लिए कहा कि सुशांत जिस दौर से गुजरे थे। सब जगह यही हाल है। लेकिन मैं मानसिक रूप से मजबूत हूं और किसी की वजह से मैं टूट नहीं सकता। इसके आगे डिंडा ने कहा कि उनकी कुछ टीम के साथ बातचीत चल रही है अगर बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) के पास जल्द ही अनापत्ति प्रमाणपत्र के लिए आवेदन कर देंगे।

अशोक डिंडा

116 फर्स्ट क्लास मैचों में 420 विकेट लेने वाले अशोक डिंडा ने कहा कि मैं बंगाल की टीम का हिस्सा नहीं रहूंगा, यह पक्का है। यह फैसला मैंने पिछले सत्र में ही कर दिया था। यह मेरा निजी मसला है। अगले सत्र में मैं किस टीम का प्रतिनिधित्व करूंगा। इस बात का अभी तक फैसला नहीं हुआ है लेकिन मैं इस कोचिंग स्टाफ के साथ खेलने से खुश नहीं हूं। मेरे साथ जिस तरह का व्यवहार होता है। उस पर मुझे कुछ नहीं कहना। मैंने हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है लेकिन अब मेरा कोई उपयोग नहीं है। यह दुनिया स्वार्थी है। मुझे हमेशा अपनी घरेलू टीम की कमी खलेगी। लेकिन मेरे अपने पूर्व साथियों के साथ अच्छे संबंध है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.