इस खिलाड़ी के लिए धरने पर बैठ गए थे सौरव गांगुली, आज इतिहास है गवाह

0

साल 2000 में नई सदी की शुरुआत हुई थी लेकिन इस शुरुआत के साथ टीम इंडिया (team india) भी पूरी तरह बदल गई। जो टीम इंडिया टैलेंट होने के बाद भी सिर्फ हार का मुंह देखती थी। उस टीम ने विरोधी टीम के मुंह से जीत छीनने का काम शुरु कर दिया था और ये सारे बदलाव हुए सौरव गांगुली की वजह से। सौरव गांगुली (sourav ganguly) यानि की टीम इंडिया के ‘दादा’ की वजह से ही भारतीय क्रिकेट टीम (indian cricket team) ने सफलता की सीढ़ी चढ़नी शुरू की। आज सौरव गांगुली अपना 48वां जन्मदिन मना रहे है। तो उनके जन्मदिन के मौक पर बताते है कि कैसे सौरव गांगुली अपनी बात मनवाने को लिए सलेक्टर्स को भी हिला कर रख देते है। सौरव गांगुली हमेशा ही मैदान में अपनी पसंद की टीम लेकर उतरते थे। जिसके लिए वह सलेक्टर्स से लड़ने के लिए भी तैयार थे।

और पढ़े: अधूरी रह गई इन 5 भारतीय क्रिकेटर्स की प्रेम कहानी, नम्बर 5 के बारे में नहीं जानते होंगे आप

हरभजन के लिए धरने पर बैठे थे गांगुली

सौरव गांगुली को अपनी टीम में हमेशा से ही बेस्ट खिलाड़ी चाहिए होते थे। इसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार थे। जिसकी एक झलक सौरव गांगुली ने साल 2001 की भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज से पहले दिखा दी थी। दरअसल ‘दादा’ को ऑस्ट्रेलिया बल्लेबाजों की ऑफ स्पिन के खिलाफ कमजोरी का पता था। इसी वजह से वह शुरु से ही हरभजन सिंह (harbhajan singh) को टीम में शामिल करना चाहते थे लेकिन सलेक्टर ने हरभजन को टीम में जगह नहीं दी थी और सलेक्टर गांगुली की बात भी नहीं मान रहे थे क्योंकि हरभजन को पहले ही कई मौके दिए जा चुके थे और वह कई बार असफल हुए। जिस वजह से सलेक्टर हरभजन पर दांव लगाने को तैयार नही थे।

सौरव गांगुली

हालांकि, ‘दादा’ ने भी हरभजन सिंह को टीम मे जगह दिलाने की बात ठान ली थी। तभी तो उन्होंने हरभजन सिंह के लिए मीटिंग हॉल में ही सलेक्टर के सामने धरना चालू कर दिया। हैरानी की बात ये है कि दादा ने अपना धरना तब खत्म किया। जब सलेक्टर हरभजन को टीम में लेने के लिए मान गए। वहीं, हरभजन सिंह ने भी सौरव गांगुली के भरोसे को टूटने नहीं दिया था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में जो हुआ। वो इतिहास बन गया है। कोलकाता टेस्ट में हरभजन ने पहली पारी में हैट्रिक लगाते हुए 6 विकेट लिए। वहीं दूसरी पारी में 6 विकेट चटकाए। इतना ही नहीं, मैच में वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ की धमाकेदार पारी देखने को मिली। जिसका नतीजा ये हुआ कि भारतीय टीम ने यहां पर बड़ी सफलता हासिल की।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.